रंगो से लाये अपने जीवन में बदलाव

अक्सर आपने देखा होगा की चित्रकार देवी देवताओं का चित्र बनाते समय उनके चेहरे पर एक अलग प्रकार का तेज डालते हैं. यह सिर्फ चित्रकार की सोच नहीं होती है बल्कि इस संसार में सभी के आभामंडल पर अलग-अलग प्रकार का तेज होता हैं. वैज्ञानिकों की खोज के अनुसार आभामंडल के तेज को किरलियन फोटोग्राफी के द्वारा देख सकते हैं. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि हमारे शरीर में भी अलग-अलग प्रकार के रंग होते हैं. इसके साथ ही हमारे शरीर पर भोजन, कपड़े, सूर्य और घर आदि के रंगों का भी असर होता है. इसीलिए आज के समय में कलर थेरेपी इलाज का एक बहुत ही कारगर तरीका बन चुकी है.

कलर थेरेपी का इस्तेमाल अधिकतर मनोवैज्ञानिक करते हैं. सूर्य की किरणों में सात रंगों का समावेश होता है. जिन के मिश्रण से कई प्रकार के रंग बनाए जा सकते हैं, पर अगर बारीकी से देखा जाए तो सिर्फ 378 रंग ही दिखाई देते हैं. सभी रंगों का अपना अपना असर होता है. किसी रंग की तासीर गर्म होती है तो किसी रंग की तासीर ठंडी. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार लोगों को अपने अपने ग्रहों के अनुसार रंगों का इस्तेमाल करना चाहिए.  कई रंग ऐसे होते हैं जिन्हे पहनने से इंसान चिड़चिड़ा हो जाता है, और कई रंग ऐसे होते हैं जो मन को शांति और ताजगी  प्रदान करते हैं.

यह बिल्कुल भी आवश्यक नहीं है कि सभी रंग इंसान पर एक जैसा असर डालें, पर एक सिद्धांत के अनुसार अगर आपके घर में सूर्य की रोशनी नहीं आती है या बहुत कम आती है तो हमें ऐसे रंगों का इस्तेमाल करना चाहिए जो ठंडक प्रदान करें. जैसे- हरा, नीला, स्लेटी आदि.  कभी भी ऐसे रंगों का इस्तेमाल ना करें जिससे आपके कमरे का अंधेरा अधिक हो जाए. आप अपने कमरों में सफेद, गुलाबी, ऑरेंज, हल्का पीला, हल्का मेहंदी रंग लगा सकते हैं. ये रंग कमरे की रोशनी को बढ़ाते हैं. इस बात का खास ध्यान रखें की कमरे की छत  पर हमेशा सफेद रंग लगाएं. ऐसा करने से कमरे बड़े दिखाई देते हैं.

अगर आपका कमरा कम चौड़ा है तो उन्हें हल्के रंग से पेंट कराएं. इस बात का खास ध्यान रखें कि अपने घर की दीवारों पर हमेशा नेचुरल रंग लगाएं. क्योंकि सिंथेटिक रंग लगाने से घर में नेगेटिविटी बढ़ती है, और घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है. रंग इंसान के जीवन पर बहुत प्रभाव डालते हैं. इसलिए रंगों का चयन हमेशा सोच समझकर करना चाहिए.  आप रंगों का चुनाव अपनी कुंडली और वास्तु के अनुसार कर सकते हैं. वास्तु के अनुसार आप अपने घर की दीवारों पर रंग करवा सकते हैं. वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि घर की आग्नेय और दक्षिण दिशा घर को भाग्यशाली बनाती है. वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में उत्तरी दीवारों पर हमेशा हल्का नीला रंग करवाना चाहिए. इसके अलावा बाथरूम में भी हल्के नीले रंग के पत्थर लगवाने चाहिए. हल्का नीला रंग पानी का होता है जो कि बहुत ही शुभ माना जाता है.

आजकल घरों में भी लोग कलर थेरेपी का इस्तेमाल कर रहे हैं. वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि रंगों के इस्तेमाल से आप अपने जीवन में आए बुरे समय  का असर कम कर सकते हैं. इसके अलावा  हमारी कुंडली में मौजूद जो ग्रह कमजोर होते हैं और रोग प्रदान करने वाले होते हैं,  रंगों के इस्तेमाल से उन कमजोर ग्रहों के असर को कम किया जा सकता है. अलग-अलग रंगों के इस्तेमाल से आप अपने जीवन की कई समस्याओं को दूर कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *